टोक्यो

विकिपीडिया केरौ बारे मँ
नेविगेशन प जा खोज प जा

साँचा:Use mdy dates

तोक्यो
東京都
राजधानी/महानगर
तोक्यो राजधानी
ऊपर से दक्षिणावर्त: निशि-शिंजुकु व्यावसायिक जिला, तोक्यो आकाशवृक्ष, इन्द्रधनुष सेतु, शिबुया चौराहा, राष्ट्रीय डाइट भवन, तोक्यो स्थानक
ऊपर से दक्षिणावर्त: निशि-शिंजुकु व्यावसायिक जिला, तोक्यो आकाशवृक्ष, इन्द्रधनुष सेतु, शिबुया चौराहा, राष्ट्रीय डाइट भवन, तोक्यो स्थानक
Flag of तोक्योOfficial seal of तोक्यो
Official logo of तोक्यो
Anthem: साँचा:Nihongo[१]
साँचा:Maplink
जापान में तोक्यो
जापान में तोक्यो
Coordinates: 35°41′23″N 139°41′32″E / 35.68972°N 139.69222°E / 35.68972; 139.69222निर्देशांक: 35°41′23″N 139°41′32″E / 35.68972°N 139.69222°E / 35.68972; 139.69222
देश साँचा:JPN
क्षेत्र कान्तो
द्वीप होंशु
प्रभाग २३ विशेष वार्ड, २६ शहर, १ जिला और ४ उप-क्षेत्र
Government
 • Type महानगर
 • गवर्नर युरिको कोइके (टॉमिन फर्स्ट नो काई)
 • राजधानी तोक्यो[२]
 • हाउस ऑफ़ रेप्रेसेंटेटिव 42
 • हाउस ऑफ़ काउंसिलर्स 11
Area
 • राजधानी/महानगर 2193.96 किमी2 (८४७.०९ वर्गमील)
 • Land 406.58 किमी2 (१५६.९८ वर्गमील)
 • Metro
13572 किमी2 (५,२४० वर्गमील)
 • Rank 45वॉ
Elevation
40 मी (१३० फीट)

साँचा:Infobox Chinese तोक्यो (साँचा:भाषा-जापानी); आधिकारिक रूप सँ तोक्यो राजधानी (साँचा:भाषा-जापानी), जेकरा पहिनै एदो के नाँव सँ जानलौ जाय छेलै; जापान केरौ राजधानी[७] आरू सबसँ बड़ौ नगर छेकै। इसका महानगरीय क्षेत्र (13,452 km²) विश्व में सबसे अधिक जनसंख्या है, 2018 तक अनुमानित 37.468 मिलियन निवासियों के साथ[८]; नगर में 13.99 मिलियन लोगों की जनसंख्या है। तोक्यो खाड़ी के शीर्ष पर स्थित, यह प्रान्त जापान के सबसे बड़े द्वीप होंशू के मध्य तट पर कान्तो क्षेत्र का भाग है। तोक्यो जापान के आर्थिक केन्द्र के रूप में कार्य करता है और यह जापान की सरकार और जापान के सम्राट दोनों की अवस्थान स्थल है।

मूल रूप से एदो नाम का एक मत्स्य जीवी ग्राम, 1603 में यह नगर एक प्रमुख राजनीतिक केन्द्र बन गया, जब यह तोकुगावा शोगुनराज का स्थान बन गया। 18वीं शताब्दी के मध्य तक, एदो 10 लाख से अधिक लोगों की जनसंख्या वाले विश्व के सबसे अधिक जनसंख्या वाले नगरों में से एक था। 1868 की मेजी पुनर्स्थापन के बाद, क्योतो में शाही राजधानी को एदो में स्थानान्तरित कर दिया गया, जिसका नाम बदलकर "तोक्यो" (साँचा:Translation) कर दिया गया। तोक्यो 1923 के महान कान्तो भूकम्प से और फिर द्वितीय विश्वयुद्ध के दौरान मित्र देशों की बमबारी से ध्वंस हो गया था। 1950 के दशक की आरम्भ में, नगर में द्रुत गति से पुनर्निर्माण और विस्तार के प्रयास हुए, जो जापानी युद्धोत्तर आर्थिक चमत्कार का नेतृत्व करने के लिए चल रहा था। 1943 के बाद से, तोक्यो महानगरीय सरकार ने प्रान्त के 23 विशेष वार्डों, इसके पश्चिमी क्षेत्र में विभिन्न कम्यूटर नगरों और उपनगरों और तोक्यो द्वीप समूह के रूप में जाने वाली दो बाहरी द्वीप शृंखलाओं को प्रशासित किया है।

नगर ने 1964 ग्रीष्मकालीन ओलिम्पिक और 1964 ग्रीष्मकालीन पैरालिम्पिक, 2020 ग्रीष्मकालीन ओलिम्पिक और 2020 ग्रीष्मकालीन पैरालिम्पिक (स्थगित; 2021 में आयोजित), और जी७ के तीन शिखर सम्मेलन (1979, 1986 और 1993 में) सहित कई अंतर्राष्ट्रीय कार्यक्रमों की आतिथ्य की है। तोक्यो जापान में अग्रणी अनुसंधान और विकास केंद्र है और इसी तरह कई प्रमुख विश्वविद्यालयों द्वारा प्रतिनिधित्व किया जाता है, विशेष रूप से तोक्यो विश्वविद्यालय सहित। तोक्यो स्थानक जापान के द्रुतगामी रेलमार्ग अन्तर्जाल, शिंकान्सेन का केन्द्र है; तोक्यो का शिंजुकु स्थानक दुनिया का सबसे व्यस्त रेलमार्ग स्थानक भी है। तोक्यो के उल्लेखनीय विशेष वार्डों में शामिल हैं: चियोदा, राष्ट्रीय डायट भवन और तोक्यो इम्पीरियल पैलेस की साइट; शिंजुकु, नगर का प्रशासनिक केन्द्र; और शिबुया, एक वाणिज्यिक, सांस्कृतिक और व्यावसायिक केन्द्र।

नाम[संपादन | स्रोत सम्पादित करौ]

तोक्यो को मूल रूप से एदो (江戸) के रूप में जाना जाता था, 江 "खाड़ी, उपसागर" और 戸 "प्रवेश, द्वार" का कांजी समास। नाम, जिसका अनुवाद "ज्वारनदीमुख" के रूप में किया जा सकता है, सुमिदा नदी और तोक्यो खाड़ी की मिलन में मूल समुदाय के स्थान को संदर्भित करता है। 1868 में मेजी पुनर्स्थापन के दौरान, नगर का नाम परिवर्तित कर तोक्यो (東京), 東 (तो) अर्थात् "पूर्व", और 京 (क्यो) अर्थात् "राजधानी", कर दिया गया, जब यह पूर्वी एशियाई परम्परा के अनुरूप नई शाही राजधानी बन गई।

इतिहास[संपादन | स्रोत सम्पादित करौ]

टोक्यो मूलतः एक छोटा मछली पकड़ने गांव था जो ईदो नामित किया गया था।

इसे पहली बार ईदो वंशावली द्वारा, उत्तरोत्तर १२ वीं शताब्दी में किलाबद्ध किया गया था।

१४५७ में, ओटा दोकान ने ईदो कैसल बनाया। १५९० में, तोकुगावा ईयासु ने ईदो को अपना आधार बनाया और जब वह १६०३ में शोगुन बन गया, तो नगर देश में सैनिक शासन का केन्द्र बन गया। बाद में पश्चाद्गामी ईदो अवधि के दौरान, ईदो १८ वीं सदी में १० लाख की जनसंख्या के साथ दुनिया के सबसे बड़े नगरों में से एक बन गया।

साँचा:विस्तार

२३ विशेष वार्ड[संपादन | स्रोत सम्पादित करौ]

मुख्य लेख: टोक्यो के विशेष वार्ड

विशेष वार्ड या तोकूबेत्सू-कू, टोक्यो के वे क्षेत्र हैं जो पहले औपचारिक रूप से टोक्यो नगर था। १ जुलाई, १९४३ को, टोक्यो नगर को टोक्यो प्रीफ़ेक्चर के साथ मिला दिया गया जो वर्तमान "महानगर प्रीफ़ेक्चर" बना। परिणामस्वरूप, जापान में अन्य नगर वार्डों से अलग, ये वार्ड किसी विशाल महानगर का भाग नहीं हैं। प्रत्येक वार्ड एक नगरपालिका है जिसका स्वयं का चयनित महापौर और विधानसभा होती है। टोक्यो के विशेष वार्ड हैं - शिबुया , शिनागावा , शिंजुकु , एडोगवा आदि।

जलवायु और भूकम्प विज्ञान[संपादन | स्रोत सम्पादित करौ]

साँचा:विस्तार निरंतर औद्योगिक विकास के चलते वर्ष 2014-15 के अंत तक जापान का टोक्यो नगर जोकि समुद्र के तटवर्ती इलाके में स्थित है, विश्व का शीर्षक सर्वाधिक प्रदूषित नगर रहा।

जनसांख्यिकी[संपादन | स्रोत सम्पादित करौ]

टोक्यो की जनसंख्या[९]
क्षेत्रफलानुसार

टोक्यो
विशेष वार्ड
टामा क्षेत्र
द्वीप

१.२७९ करोड़
८६.५३ लाख
४१.०९ लाख
२८,०००

आयु अनुसार

तरुण (आयु ०-१४)
कार्यशील (आयु १५-६४)
सेवानिवृत (आयु ६५+)

१४.६१ लाख (११.८%)
८५.४६ लाख (६९.३%)
२३.३२ लाख (१८.९%)

घंटे अनुसार

दोपहर
रात्री

१.४९७८ करोड़
१.२४१६ करोड़

राष्ट्रीयतानुसार

विदेशी निवासी

३,६४,६५३

१ अक्टूबर २००७ तक का अनुमान।

१ जनवरी २००७ तक का।

२००५ की राष्ट्रीय जनगणना तक का।

१ जनवरी २००६ तक का।

अक्टूबर २००७ तक, आधिकारिक अंतरजनगणनीय अनुमानो के आधार पर टोक्यो में १.२७९ करोड़ लोग निवास करते हैं, जिन्में से ८६.५३ लाख टोक्यो के २३ वार्डों में निवास करते हैं। दोपहर के समय, जनसंख्या में लगभग २५ लाख की वृद्धि हो जाती है क्योंकि कर्मिक और विद्यार्थी आसपास के क्षेत्रों से टोक्यो में आते हैं। यह स्थिति तीन केन्द्रीय वार्डों चियोदा, चूओ और मिनातो में और अधिक स्पष्ट होती है, जिनकी २००५ की राष्ट्रीय जनगणना के अनुसार सामूहिक जनसंख्या रात्री के समय ३,२६,०० होती थी, पर दोपहर के समय २४ लाख तक पहुँच जाती थी।

समूचे प्रिफ़ेक्चर में २००७ में १,२७,९०,००० (२३ वार्डों में ८६,५३,०००) निवासी थे, जिसमें दोपहर के समय ३० लाख की वृद्धि होती थी। टोक्यो की अब तक की सर्वाधिक जनसंख्या १९६५ की जनगणना में थी, जब २३ वार्डों की आधिकारिक जनसंख्या ८८,९३,०९४ थी और १९९५ की जनगणना में यह संख्या ८० लाख से नीचे चली गई।[कृपया उद्धरण जोड़ें] लेकिन उसके बाद से लोग भूमि के दाम गिरने के कारण नगर के भीतरी भाग में बसते रहे।[कृपया उद्धरण जोड़ें]

२००५ तक, टोक्यो मे रहने वाले विदेशियों में सर्वाधिक जनसंख्या चीनीयों (१,२३,६६१) की है, फिर कोरियाई (१,०६,६९७), फ़िलिपीनो (३१,०७७), अमेरिकी (१८,८४८), ब्रिटिश (७,६९६), ब्राज़ीलियाई (५,३००) और फ़्रांसीसी (३,०००)[१०]

१८८९ की जनगणना में [तथ्य वांछित], टोक्यो में १३,८९,६०० लोग दर्ज किए गए थे, जो उस समय जापान में सर्वाधिक थे।

अर्थव्यवस्था[संपादन | स्रोत सम्पादित करौ]

टोक्यो शेयर बाज़ार

टोक्यो, विश्व अर्थव्यवस्था का संचालन करने वाले तीन केन्द्रों में से एक है, अन्य दो हैं लंदन और न्यूयॉर्क। टोक्यो विश्व की सबसे बड़ी महानगरीय अर्थव्यवस्था भी है। प्राइसवॉटरहाउसकूपर्स द्वारा कराए गए एक सर्वेक्षण के अनुसार टोक्यो नगरीय क्षेत्र (३.५२ करोड़) का कुल सकल घरेलू उत्पाद वर्ष २००८ में क्रय शक्ति के आधार पर १,४७९ अरब अमेरिकी डॉलर था जो सूची में सर्वाधिक था। २००८ की स्थिति तक, ग्लोबल ५०० में सूचीबद्ध समवायों में से ४७ के मुख्यालय टोक्यो में स्थित हैं, जो दूसरे स्थान के नगर पैरिस से लगभग दोगुने हैं।

टोक्यो, विश्व का एक प्रमुख वित्तीय केन्द्र भी है, जहाँ पर विश्व के सबसे बड़े निवेश बैंको और बीमा समवायों के मुख्यालय स्थित हैं और यह नगर जापान के परिवहन, प्रकाशन और प्रसारण उद्योगों का एक प्रमुख केन्द्र भी है। द्वितीय विश्व युद्ध के पश्चात जापान की केन्द्रीयकृत वृद्धि के दौरान, बहुत से व्यवसाय-संघ अपने मुख्यालय ओसाका से टोक्यो ले गए ताकी सरकार तक उत्तमतर पहुँच हो सके। लेकिन टोक्यो में बढ़ती जनसंख्या और महँगे जीवन स्तर के कारण अब इस चलन में कमी आने लगी है।

इकॉनमिस्ट इण्टेलिजेन्स यूनिट द्वारा टोक्यो को विश्व के सबसे महँगे नगर के रूप में मूल्यांकित किया जो लगातार १४ वर्षों तक जारी रहा और २००६ में जाकर समाप्त हुआ। यह विश्लेषण निगमीय कार्यकारी जीवन शैली के लिए था, जिसमें असंलग्न घर और बहुत से वाहनों जैसे मदों को सम्मिलित किया गया था।

टोक्यो शेयर बाज़ार, जापान का सबसे बड़ा शेयर बाज़ार है और बाज़ारी पूँजीकरण के आधार पर विश्व में दूसरा सबसे बड़ा और शेयर बिक्री के आधार पर चौथा सबसे बड़ा। १९९० के अन्त में जापानी परिसंपत्ति मूल्य गुबार के समय इसकी विश्व स्टॉक बाज़ार निधि में ६०% की भागीदारी थी।

परिवहन[संपादन | स्रोत सम्पादित करौ]

टोक्यों, वृहदतर टोक्यों क्षेत्र का केन्द्र होने के कारण, जापान का सबसे बड़ा घरेलू और अन्तर्राष्ट्रीय रेल, वायु और भूतलीय परिवहन का केन्द्र- बिन्दू है। टोक्यो का सार्वजनिक परिवहन साफ-सुथरे और कुशल ट्रेनों और भूमिगत रेलों का विशाल तन्त्र है जो विभिन्न संचालकों द्वारा संचालित किया जाता है, जिसमें बसें, मोनोरेल और ट्रामें गौण और सहायक परिवहन की भूमिका में है।

ओटा के भीतर, जो २३ विशेष वार्डों में से एक है, स्थित टोक्यों अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा ("हानेदा") घरेलू विमान सेवा प्रदान करता है, जबकि चीबा प्रेइफेक्चर में स्थित नरिता अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा, जापान आने वाले यात्रियों के लिए जापान का प्रवेशद्वार है।

टोक्यो मेट्रो मार्ग का मानचित्र

रेलें, टोक्यो में परिवहन का प्रमुख साधन हैं और टोक्यो का रेल तन्त्र विश्व का सबसे विशाल महानगरीय रेल तन्त्र है और सतही मार्गों का भी इतना ही विशाल तन्त्र है। जेआर ईस्ट, टोक्यो के सबसे बड़े रेल तन्त्र का संचालन करता है, जिसमें यामानोते लूप लाइन भी सम्मिलित है जो डाउनटाउन टोक्यो के केन्द्र का चक्कर लगाती है। दो संगठन भूमिगत तन्त्र का संचालन करते हैं: निजी टोक्यो मेट्रो और सरकारी टोक्यों महानगर परिवहन ब्यूरो। महानगरीय सरकार और निजि वाहक बस मार्गों को संचालित करते है। स्थानीय, क्षेत्रीय और राष्ट्रीय सेवाएं विशाल रेलमार्ग स्टेशनों पर स्थित प्रमुख टर्मिनलों पर से उपलब्ध हैं।

एक्स्पेस-मार्ग राजधानी को वृहद्तर टोक्यो क्षेत्र के अन्य बिन्दुओं से जोड़ते हैं, जैसे कान्तो क्षेत्र और क्युशु और शिकोकू द्वीप।

अन्य परिवहन के साधन है टेक्सियां जो विशेष वार्डों और नगरो और कस्बों में सेवाएं प्रदान करती हैं। लम्बी दूरी की नौकाएं टोक्यो के द्वीपों पर सेवाएं प्रदान करती है और यात्रियों और कार्गो (सामान) को घरेलू और विदेशी बन्दरगाहों तक लाती-ले जाती हैं।

शिक्षा[संपादन | स्रोत सम्पादित करौ]

टोक्यो में बहुत से विश्वविद्यालय, जूनियर कॉलेज और वोकेश्नल स्कूल हैं। जापान के बहुत से नामी विश्वविद्यालयों में से कई टोक्यो में स्थित हैं, जिनमें टोक्यो विश्वविद्यालय, हितोत्सूबाशी विश्वविद्यालय, टोक्यो प्रौद्योगिकी संस्थान, वासीदा विश्वविद्यालय और कीओ विश्वविद्यालय सम्मिलित हैं। सर्वाधिक बडे़ राष्ट्रीय विश्वविद्यालयों में से टोक्यों में निम्नलिखित स्थित है:

  • ओचानोमिज़ू विश्वविद्यालय
  • वैद्युत-संचार विश्वविद्यालय
  • टोक्यो विश्वविद्यालय
  • टोक्यो आयुर्विज्ञान और दन्त विश्वविद्यालय
  • टोक्यो विदेशी शिक्षा विश्वविद्यालय
  • टोक्यो समुद्री विज्ञान और प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय
  • टोक्यो गाकूजेई विश्वविद्यालय
  • टोक्यो कला विश्वविद्यालय
  • टोक्यो प्रौद्योगिकी संस्थान
  • टोक्यों कृषि एवँ प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय
  • हितोत्सूबाशी विश्वविद्यालय

खेलकूद[संपादन | स्रोत सम्पादित करौ]

टोक्यो में विविध प्रकार के खेल खेले जाते हैं और यह दो पेशेवर बेसबॉल क्लबों का घर है, योमियूरी जायंट्स जो टोक्यो डोम में खेलते हैं और टोक्यो याकुल्ट स्वैलोज जो मेइजेई-जिंगू स्टेडियम में खेलते हैं। जापान सूमो संघ का मुख्यालय भी टोक्यो में र्योगोकू कोकूजिकन सूमो एरीना में स्थित है जहाँ पर तीन वार्षिक आधिकारिक सूमो प्रतियोगिताएँ आयोजित की जाती हैं (जनवरी, मई और सितंबर)। टोक्यो के फुटबॉल क्लब हैं एफ. सी. टोक्यो और टोक्यो वेर्डी १९६९ और दोनों ही अजिनोमोतो स्टेडियम, चोफू में खेलते हैं।

टोक्यो ने १९६४ ग्रीष्मकालीन ओलम्पिक की मेज़बानी की थी। नैश्नल स्टेडियम, जिसे ओलंपिक स्टेडियम, टोक्यो के नाम से भी जाना जाता है में बहुत सी अंतर्राष्ट्रीय खेल प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाता है। टोक्यो के बहुत से विश्व-स्तरीय खेल स्थलों में बहुत सी राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय खेल प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाता है जैसे टेनिस, तैराकी, मैराथन, जूड़ो, कराटे, इत्यादि।

संस्कृति[संपादन | स्रोत सम्पादित करौ]

साँचा:विस्तार

पर्यटन स्थल[संपादन | स्रोत सम्पादित करौ]

टोक्यो के पर्यटन स्थल निम्नलिखित हैं:

शाही महल

शाही महल जापान के राजा का आधिकारिक निवास है। इस महल में जापानी परंपराओं को देखा जा सकता है। महल में बहुत से सुरक्षा भवन और दरवाजें हैं। यहां की सबसे प्रसिद्ध जगहों में से कुछ हैं- ईस्ट गार्डन, प्लाजा और निजुबाशी पुल। यह महल सम्राट के जन्मदिन के दिन जनता के लिए खोला जाता है।[११]

टोक्यो टावर

इस टावर का निर्माण १९५८ में हुआ था। ३३३ मीटर ऊंचा यह टावर एफिल टावर से भी १३ मीटर ऊंचा है। यहां पर दो वेधशालाएं हैं जहाँ से टोक्यो का दृश्य देखा जा सकता है। साफ़ मौसम में यहां से माउंट फ़्यूजी भी दिखता है। मुख्य वेधशाला १५० मीटर ऊंची है और विशेष वेधशाला २५० मीटर ऊंची है। इस टावर के अंदर टोक्यो टावर मोम संग्रहालय, रहस्मय पैदल क्षेत्र और हस्तलाघव कला गलियारा भी है।

असाकुसा श्राइन

दंतकथाओं के अनुसार सैकड़ों वर्ष पहले हिरोकुमा बंधुओं के मछली पकड़ने के जाल में कैनन की प्रतिमा फंस गई। तब गांव के मुखिया ने वहां प्रतिमा की स्थापना की। इन तीन लोगों को समर्पित असाकुसा श्राइन की स्थापना १६४९ में हुई थी। इसके बाद इस मंदिर का एक उपनाम संजा-समा पड़ा। यह टोक्यो का सबसे प्रमुख मंदिर है। मई के महीने में यहां संजा उत्सव भी मनाया जाता है।

मीजी जिंगू श्राइन

यह मंदिर शिंतो वास्तुकला का उत्तम नमूना है। इसका निर्माण १९२० में यहां के शासक मीजी (१९१२) की स्मृति में किया गया था। ७२ हैक्टेयर में फैले पेड़ों और मीजी जिंगू पार्क की जापानी वनस्पतियों से घिरा यह स्थान जापानी की सबसे सुन्दर और पवित्र जगहों में से एक है।

अमेयोको

अमेयोको में जूतों से लेकर कपड़ों तक, हर प्रकार की उपभोक्ता वस्तु खरीदी जा सकती हैं। बालों पर लगाने वाली क्रीम हो या छतरी यहां सब कुछ मिलता है। यह बाजार उएनो स्टेशन के पास है इसलिए यहां आने वाले लोग इस बाजार में आना पसंद करते हैं। यदि आप जापान के कामकाजी लोगों को निकट से देखना चाहते हैं और अद्भुत चीजें कम दाम पर खरीदना चाहते हैं तो यह जगह बिल्कुल उपयुक्त है।

इन्द्रधनुषी पुल

इस अनोखे नाम का कारण इस पुल पर रात को जलने वाली रंगबिरंगी रोशनी हैं। यह पुल मिनटोकु और ओडैबा को जोड़ता है। यहां पर आठ यातायात लेन और दो रेलमारग हैं। पैदल चलने वालों के लिए भी रास्ता है। यह पुल १९९३ में चालू किया गया था। इस पुल की सुन्दरता को देखने का एक अन्य उपाय है मोनोरल, जो शिम्बाशी से चलती है। इसके अतिरिक्त हिनोक पीयर से असाकुसा के बीच क्रूज से यात्रा करके इसकी सुन्दरता को निहारा जा सकता है।

समय: सुबह ९ बजे से रात ९ बजे तक, अप्रैल से अक्टूबर: सुबह १० बजे से शाम ६ बजे तक

महीने के तीसर सोमवार और राष्ट्रीय अवकाश के दिन बंद

तोशोगु मंदिर

इस मंदिर का मुख्य आकर्षण पत्थर की बनी ५० विशाल लालटेन हैं। इनमें से कई सामंती दासों द्वारा दान की गई थीं। यहां का मुख्य भवन जिसका निर्माण १६५१ में हुआ था, सोने से बनी थी। इसे बनाने का श्रेय तीसर शोगुम इमीत्सु तोकुगावा को जाता है। यह मंदिर जापान की राष्ट्रीय संपदा का भाग है।

सूमो संग्रहालय

सूमो रसलिंग जापान का सबसे प्रसिद्ध खेल है। इस संग्रहालय में समारोह के दौरान पहले जाने वाले कपड़ों, सूमो वस्त्रों, रैफरी के पैडलों को प्रदर्शित किया गया है और प्रसिद्ध रसलरों के बार में बताया गया है। यह संग्रहालय नेशनल सूमो स्टेडियम के साथ बना है।

गिंजा

गिंजा जापान का और कदाचित एशिया का सबसे अच्छा और भव्य शॉपिंग एरिया है। दुनिया भर के प्रसिद्ध ब्रैण्ड स्टोर यहां मिल जाएंगे। मित्सुकोशी, मत्सुया और मत्सुजकाया डिपार्टमेंटल स्टोर यहां हैं, साथ ही यामहा म्यूजिक शॉप और सबसे मशहूर कॉस्मेटिक्स शीसेडो भी यहां हैं। गिंजा कार्यालय में काम करने वालों से लेकर विद्यार्थियों तक को पसंद आता है। यहां पर मदिरा, पानी और खाना खाने की कई जगहें मिल जाएंगी। इनमें साधारण और महंगी दोनों तरह के स्थान सम्मिलित हैं।

नेशनल म्यूजियम ऑफ वेस्टर्न आर्ट

यह संग्रहालय पर्यटकों के बीच बहुत की प्रसिद्ध है क्योंकि यहां सुदूर पूर्व में पश्चिमी कला का आधुनिकतम संग्रह है। इस संग्रह के पीछे का इतिहास बहुत रोचक है। सैन फ़्रांसिस्को शांति समक्षौते में कहा गया कि कोजिरो मत्सुकाता संग्रह जो द्वितीय विश्वयुद्ध के समय फ़्रांस के पास चला गया था, अब फ्रांस की संपत्ति होगा। बाद में फ्रांस सरकार ने यह संग्रह जापान को वापस कर दिया। यह संग्रहालय १९५९ में खुला था।[१२]

कुल मिलाकर देखें तो यह शहर आधुनिकता और परंपराओ का एक अनुपम उदाहरण है। अत्याधुनिक महानगर होते हुए भी इसने अपनी परंपराओं को छोड़ा नहीं है। यहां आपको जापान की उन्नति दिखाई देगी, तो साथ ही इसकी संस्कृति भी।

नगर दृश्यावली[संपादन | स्रोत सम्पादित करौ]

माउंट फूजी का विहंगम दृश्य
टोक्यो इम्पीरियल पैलेस का विहंगम दृश्य
टोक्यो इम्पीरियल महल में सकूरा

भगिनी नगर[संपादन | स्रोत सम्पादित करौ]

टोक्यो के ग्यारह भगिनी नगर हैं:[१३]

इसके अतिरिक्त, टोक्यो का लंदन, यूनाइटेड किंगडम के साथ एक "भागीदारी" समझौता भी है।[१३]

इन्हें भी देखें[संपादन | स्रोत सम्पादित करौ]

सन्दर्भ[संपादन | स्रोत सम्पादित करौ]

  1. लुआ त्रुटि मोड्यूल:Citation/CS1/Utilities में पंक्ति 38 पर: bad argument #1 to 'ipairs' (table expected, got nil)।
  2. लुआ त्रुटि मोड्यूल:Citation/CS1/Utilities में पंक्ति 38 पर: bad argument #1 to 'ipairs' (table expected, got nil)। Shinjuku is the location of the Tokyo Metropolitan Government Office. But Tokyo is not a "municipality". Therefore, for the sake of convenience, the notation of prefectural is "Tokyo".
  3. लुआ त्रुटि मोड्यूल:Citation/CS1/Utilities में पंक्ति 38 पर: bad argument #1 to 'ipairs' (table expected, got nil)।
  4. लुआ त्रुटि मोड्यूल:Citation/CS1/Utilities में पंक्ति 38 पर: bad argument #1 to 'ipairs' (table expected, got nil)।
  5. लुआ त्रुटि मोड्यूल:Citation/CS1/Utilities में पंक्ति 38 पर: bad argument #1 to 'ipairs' (table expected, got nil)।
  6. लुआ त्रुटि मोड्यूल:Citation/CS1/Utilities में पंक्ति 38 पर: bad argument #1 to 'ipairs' (table expected, got nil)।
  7. लुआ त्रुटि मोड्यूल:Citation/CS1/Utilities में पंक्ति 38 पर: bad argument #1 to 'ipairs' (table expected, got nil)।
  8. लुआ त्रुटि मोड्यूल:Citation/CS1/Utilities में पंक्ति 38 पर: bad argument #1 to 'ipairs' (table expected, got nil)।
  9. लुआ त्रुटि मोड्यूल:Citation/CS1/Utilities में पंक्ति 38 पर: bad argument #1 to 'ipairs' (table expected, got nil)।
  10. लुआ त्रुटि मोड्यूल:Citation/CS1/Utilities में पंक्ति 38 पर: bad argument #1 to 'ipairs' (table expected, got nil)।
  11. लुआ त्रुटि मोड्यूल:Citation/CS1/Utilities में पंक्ति 38 पर: bad argument #1 to 'ipairs' (table expected, got nil)।
  12. लुआ त्रुटि मोड्यूल:Citation/CS1/Utilities में पंक्ति 38 पर: bad argument #1 to 'ipairs' (table expected, got nil)।[मृत कड़ियाँ]
  13. १३.० १३.१ लुआ त्रुटि मोड्यूल:Citation/CS1/Utilities में पंक्ति 38 पर: bad argument #1 to 'ipairs' (table expected, got nil)।

बाहरी कड़ियाँ[संपादन | स्रोत सम्पादित करौ]

साँचा:Sisterlinks