सामग्री प जा

ब्राह्मी लिपि

विकिपीडिया केरौ बारे मँ
(ब्राह्मी सँ भेजलौ गेलौ)
सारनाथ केरौ स्तम्भ प ब्राह्मी लिपि मँ शिलालेख

ब्राह्मी लिपि , एक प्रकार के खंडीय लेखन प्रणाली छेकै जे बायाँ सँ दायाँ के ओरी लिखलौ जाय छै। इ भारत केरौ सबसँ प्राचीन लिपि मँ सँ एक छै, इ लिपि उत्तरी भारतीय उपमहाद्वीप मँ प्रयुक्त होलौ छेलै।[१] एकरऽ वंशज केरऽ प्रयोग आय्यो पूरा दक्षिण आरू दक्षिण पूर्व एशिया में जारी छै। ब्राह्मी एगो अबुगिदा छेकै जे स्वर क व्यंजन चिन्ह सँ जोड़ै लेली विवर्तन चिह्न क प्रणाली केरौ प्रयोग करै छै। लेखन प्रणाली मौर्य काल (तीसरी शताब्दी ई.पू.) स॑ ल॑ क॑ गुप्त काल केरऽ प्रारंभिक (चतुर्थ शताब्दी ई.) तक केवल अपेक्षाकृत छोटऽ-छोटऽ विकासवादी परिवर्तन स॑ गुजरी गेलऽ छेलै, आरू ई मानलऽ जाय छै कि 4वीं शताब्दी ई. के बाद भी एक साक्षर व्यक्ति अखनी भी पढ़ी सकै छेलै आरु मौर्य शिलालेख बुझै छेलै। तेकरौ कुछु समय बाद मूल ब्राह्मी लिपि पढ़ै के क्षमता खतम होय गेलै। सबसँ प्रारम्भिक (निर्विवाद रूप सँ तिथि) आरो सर्वाधिक प्रसिद्ध ब्राह्मी शिलालेख उत्तर-मध्य भारत केरौ अशोक क चट्टान-कटल आज्ञा छेलै, जे २५०-२३२ ई.पू. भारत मँ ईस्ट इंडिया कंपनी के शासन के दौरान 19वीं सदी के शुरुआत मँ, विशेष रूप सँ कलकत्ता के एशियाटिक सोसाइटी ऑफ बंगाल मँ ब्राह्मी के व्याख्या यूरोपीय विद्वान के ध्यान के केंद्र मँ बनलौ छेलै। ब्रह्मी केरऽ व्याख्या सोसाइटी केरऽ सचिव जेम्स प्रिंसेप न॑ १८३० के दशक म॑ सोसाइटी केरऽ पत्रिका म॑ विद्वानऽ के लेखऽ के श्रृंखला म॑ करलकै। हुनकऽ सफलता क्रिश्चियन लैसेन, एडविन नॉरिस, एच. एच. विल्सन आरू अलेक्जेंडर कनिंघम, आरू अन्य के एपिग्राफिक काम प॑ आधारित छेलै।

एकरहो देखौ[संपादन | स्रोत सम्पादित करौ]

बाहरी कड़ी[संपादन | स्रोत सम्पादित करौ]

संदर्भ[संपादन | स्रोत सम्पादित करौ]

  1. भारतीय पुरालेखौ केरौ अध्ययन Archived २०१८-११-१० at the Wayback Machine (लेखक-शिवस्वरूप सहाय)